कोलेजन (Collagen) क्या है और इसका शरीर में उत्पादन कैसे बढ़ायें? (What is Collagen and how to increase its production in the body?)

all about collagen

अगर आप अपने शरीर से प्यार करते है और अपनी त्वचा को जवान और स्वस्थ रखना चाहते है तो आपकी ये इच्छा जो पूरी कर सकता है वह है कोलेजन (Collagen). यह एक तरह का प्रोटीन है जो हमारे शरीर और जानवरों में विशेष रूप से पाया जाता है।

इसकी हमारे शरीर में बहुत महत्वपूर्ण भूमिकाएं हैं, जिसमें आपकी त्वचा को संरचना प्रदान करना, हड्डियों में मजबूती देना, रक्त के थक्के की मदद करना, नाखुनो और बालो को स्वस्थ रखना इत्यादि है। कोलेजन शरीर के कई अन्य हिस्सों में भी पाया जाता है, जिसमें रक्त वाहिकाएं, कॉर्निया और दांत शामिल हैं। इसे आप एक तरह की “गोंद (glue)” के रूप में सोच सकते हैं जो इन सभी चीजों को एक साथ रखता है।

एक स्वस्थ मानव के शरीर का लगभग एक तिहाई कोलेजन होता है या ये भी बोल सकते है कि मानव शरीर के पुरे प्रोटीन का 30% कोलेजन से बना होता है। जब इसका उत्पादन शरीर में कम हो जाता है तो हमें त्वचा(झुर्रियों और सूखापन), जोड़ों, बालो और नाखुनो से संबंधित परेशानिया आनी शुरू हो जाती है।

शरीर में कोलेजन उत्पादन कब घटने लगता है?(When does collagen production decrease in the body?):- जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है हमारे शरीर में कोलेजन (Collagen) कम होने लगता है और शरीर में झुर्रियां, त्वचा में सूखापन आने लगता है। लगभग 35 से 40 साल की उम्र में शरीर में कोलेजन (Collagen) का निर्माण करने की दर धीमी होने लगती है।

उम्र बढ़ना ही इसकी निर्माण की दर धीमी करने का कारण नहीं है बल्कि आपकी अस्वस्थ जीवन शैली (unhealthy lifestyle), गलत आदतें जैसे धूम्रपान करना, नशा करना, नींद पूरी नहीं लेना, पौष्टिक भोजन न खाना, ज्यादा चिंता करना इत्यादि भी इसका बहुत बड़े कारण है इसलिए ही आप ने देखा होगा आज कल लोग उम्र से पहले ही बूढ़े लगने लगते है।

शरीर में कोलेजन (Collagen) का उत्पादन कैसे बढ़ायें?(how to increase Collagen production in the body):- कुछ सालो से जब से लोगो में अस्वस्थ जीवन शैली (unhealthy lifestyle) बढ़ी है और उम्र से पहले शरीर बूढ़े लगने लगे है तो इसके सप्लीमेंट्स की मांग बहुत बढ़ गयी है। अब आप या तो सप्लीमेंट्स (supplements) ले या अपने खाने में पौष्टिकता लाये जिसमें सभी विटामिन्स मुख्य रूप से विटामिन-C की मात्रा सही हो। अपने खाने में कुछ पौष्टिक खाद्य पदार्थ जैसे एलोवरा, संतरे, नीबू , अमरुद, अमला, हल्दी, इत्यादि का प्रयोग बढ़ा दें।

आजकल सभी को सप्लीमेंट्स (supplements) लेने ज्यादा आसान लगते है तो अगर हम कोलेजन सप्लीमेंट्स (Collagen supplements) की बात करें तो यहाँ आपको एक बात समझनी होगी कि ज्यादातर कोलेजन सप्लीमेंट्स (Collagen supplements) मासाहारी होते है क्योकि कोलेजन किसी भी प्राकर्तिक पेड़ पौधों या खाने में नहीं होता है इसे जानवरों में से निकाला जाता है और उसी से सप्लीमेंट्स (supplements) बनाये जाते है।

कुछ कम्पनिया शाकाहारी लोगों के लिए भी कोलेजन (Collagen) बूस्टर सप्लीमेंट्स बनाते है। अब यहाँ आप कहेंगे जब ये सिर्फ जानवरो में पाया जाता है तो शाकाहारी कोलेजन (plant based collagen builder) बूस्टर सप्लीमेंट्स कैसे बनता है।

शाकाहारी कोलेजन और पशु-आधारित कोलेजन के बीच अंतर (Difference Between plant based collagen builder and Animal-Based Collagen):-

पशु-आधारित कोलेजन (Animal-Based Collagen) जानवरो से कोलेजन निकाल कर बनाया जाता है। यानि आपको सीधे रूप से कोलेजन (Collagen) दिया जाता है। जबकि शाकाहारी कोलेजन सप्लीमेंट्स (plant based collagen builder) को वास्तविक, पौष्टिक, प्लांट आधारित संपूर्ण खाद्य पदार्थों से बना जाता है जो शरीर को उसके अपने कोलेजन उत्पादन करने में मदद करते है।

ध्यान दें:– आपसे अनुरोध है कि यहाँ बताये गए कोलेजन का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर / वैद्यराज की सलाह जरूर ले। उपरोक्त वर्णित सभी जानकारी अनुभव एवं अनुशंधान के आधार पर लिखी गई हैं, जानकारी के अनुसार किये जाने वाले प्रयोग या उपायों कि प्रामाणिकता एवं लाभ-हानि की जिन्मेदारी संपादक की नहीं हैं।

अगर आपको हमारा ये लेख – “कोलेजन (Collagen) क्या है और इसका शरीर में उत्पादन कैसे बढ़ायें? (What is Collagen and how to increase its production in the body?)” पसंद आया हो तो अपनी प्रतिक्रिया(comments) जरूर लिखें।

2 Comments

Leave a Comment.