आवश्यक सप्लीमेंट्स जो मसल्स बनाने के लिए लेने चाहिए – Top Essential Supplements For Muscle Gain

supplements

आज जितना तेजी से लोगो का रुझान फिटनेस की तरफ हो रहा है उतनी तेजी से सप्लीमेंट्स (Supplements) का प्रयोग भी बढ़ रहा है। लोग इतना ध्यान अपने खाने पर नहीं दे रहें जितना सप्लीमेंट्स पर दे रहे है सबको लगता है कि बिना सप्लीमेंट्स वो अपने फिटनेस के लक्ष्य को नहीं पा सकते है जो की गलत है। अगर आप अपने रोज के खाने पर थोड़ा ध्यान दे और वहां से अपनी प्रतिदिन की पोषण की जरुरत पूरी करे तो इसका कोई विकल्प हो ही नहीं सकता।
अब इसका एक दूसरा पहलू भी है। वो ये की जो खाना हम खा रहे है उनमें सारे पोषण तत्त्व है भी या नहीं। मुख्य रूप से भारत जैसे देश में जहाँ आज एक अच्छा पौष्टिक आहार मिलना बहुत मुश्किल हो रहा है। फसलों की उत्पादकता बढ़ाने के लिए यहाँ बहुत अधिक मात्रा में कीटनाशक और रासायनिक खादों का प्रयोग किया जा रहा जिसे खाने के पोषक तत्व कम हो रहे है और उनकी गुणवत्ता भी बहुत कम हो रही है। इनको खाने पर हमारा पाचन तंत्र इन्हे सही से पचा भी नहीं पता तो हमे इनसे पोषक तत्व भी पूरी तरह से नहीं मिल पाते है। अब यहां ये जरुरी हो जाता है कि हम अपने खाने के साथ साथ कुछ सप्लीमेंट्स भी लेना शुरू करे जिसे हमारे शरीर की प्रतिदिन की पोषण की जरुरत पूरी हो जाए। यहाँ पर शाकाहारी लोगो की लिए अपने भोजन से पुरे पोषक तत्व लेना मुश्किल होता है मुख्य रूप से प्रोटीन, तो उनके लिए भी सप्लीमेंट्स (Supplements) का प्रयोग कुछ हद तक जरुरी हो जाता है। Continue reading

टेस्टोस्टेरोन का स्तर प्राकृतिक तरीके से कैसे बढायें? (How to increase testosterone level naturally?)

Natural testosterone booster

Natural testosterone booster

टेस्टोस्टेरोन(testosterone) जिसे पुरूष हार्मोन या मेल हार्मोन बोलते है। यह पुरुषो में यौनक्रिया, प्रजनन सम्बन्धी कार्यों, आवाज का मोटा होना , मांसपेशीय का विकास, बालों की वृद्धि, प्रतिस्पर्धी व्यवहार और अन्य इसी प्रकार की कई चीज़ों से सम्बंधित होता है। सामान्य तौर पर उम्र बढ़ने के साथ टेस्टोस्टेरॉन के स्तर में गिरावट देखने को मिलती है। 20 से 35 वर्ष की आयु के बीच टेस्टोस्टेरोन का स्तर अपने शिखर पर होता है और इसके बाद धीरे-धीरे घटता जाता है। ये व्यक्ति-व्यक्ति पर निर्भर करता है कि उसका टेस्टोस्टेरोन का स्तर किस उम्र से कम होना शुरू हो जाए। आज कल तनाव, ज्यादा चिन्ता और काम के दबाव के कारण भी लोगो का टेस्टोस्टेरोन का स्तर नीचे होना शुरू हो गया है जिस उम्र में ये अपने चरम शिखर पर होना चाहिए उस उम्र में आज लोगो का टेस्टोस्टेरोन का स्तर बहुत कम पाया जा रहा है। Continue reading